*सती ने शिव को प्राप्त करने के लिए कठोर तप किया*
May 16th, 2024 | Post by :- | 17 Views

चंडीगढ़ (मनोज शर्मा)पूज्य महाराज श्री जी के जन्मदिवस पर सेक्टर 16 सनातन धर्म मंदिर में आयोजित पावन शिवमहापुराण कथा के पंचम दिवस के सद्भावना दूत भागवताचार्य डा रमनीक कृष्ण जी महाराज ने शिव विवाह का वर्णन करते हुए कहा के सती ने शिव को प्राप्त करने के लिए कठोर तप किया। भगवान शिव ने सप्त ऋषियों को परीक्षा लेने के लिए भेजा। ऋषियों ने भगवान शिव में अनेक दोष गिनाएं। देवी ! तुम किनकी प्रतीक्षा कर रही हो? वो तुम्हारे तप से प्रसन्न नही होने वाले है। अरे वो हिमालय के ऊपर रहकर पत्थर कर सम्मान कठोर हृदय वाले हो गए हैं। बागंबरधारी हैं। शम्शानो में वास करते हैं। उनके संग विवाह करके तुम्हे कोई सुख प्राप्त नही होगा। भगवान श्री हरी गुणों की खान है। शेष शैया पर विराजमान है। उनके मस्तक पर किरीट, बाहुओं में भुजबंद, गले में बहुमूल्य हार जिनके शोभा पा रहे हैं। इसे सुंदर भगवान के संग ब्याह करके तुम्हे समस्त सुखों की प्राप्ति होगी। इन समस्त शब्दों को श्रवण कर मां सती बोली भगवान विष्णु भले ही गुणों की खान हों, परंतु मुझे शिव से ही काम है। जिसे जिस से कार्य हो उसे वही रुचिकर लगता है। इसलिए ही ऋषियों मुझे शिव को ही पति रूप में पाना है। सप्त ऋषि भगवान शिव के पास जाकर सब व्यक्त करते हैं। भगवान शिव तब स्वयं बुड़े ब्राह्मण का रूप धारण कर सती की परीक्षा लेते हैं। सती परीक्षा में सफल होती है। आशुतोष भगवान शिव प्रसन्न होते हैं और ब्राह्मण रूप में आशीर्वाद देते हैं तुम्हे शिव ही पति रूप में मिलेंगे। इस प्रकार से भगवान शिव को बारात हिमालय की ओर चलती है। बराती अगुआनी करते हैं। मैना शिव के रूप को देखकर अचंभित होती है। नारद जी मां को शिव महिमा समझाते हैं। शिव सती विवाह होता है। देवता पुष्प वृष्टि करते हैं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।

आप अपने क्षेत्र के समाचार पढ़ने के लिए वैबसाईट को लॉगिन करें :-
https://www.lokhitexpress.com

“लोकहित एक्सप्रेस” फेसबुक लिंक क्लिक आगे शेयर जरूर करें ताकि सभी समाचार आपके फेसबुक पर आए।
https://www.facebook.com/Lokhitexpress/

“लोकहित एक्सप्रेस” YouTube चैनल सब्सक्राईब करें :-
https://www.youtube.com/lokhitexpress

“लोकहित एक्सप्रेस” समाचार पत्र को अपने सुझाव देने के लिए क्लिक करें :-
https://g.page/r/CTBc6pA5p0bxEAg/review