कांकेर में स्वास्तिक बुक पर आईपीएल का करोड़ो का चल रहा कारोबार, बीते साल पकड़ाया था 3 करोड़ का सट्टा इस बार पुलिस के हाथ अब तक खाली, एसपी बोले होगी कार्यवाही
April 9th, 2024 | Post by :- | 358 Views

कांकेर आईपीएल सट्टेबाजी का सबसे बड़ा बाजार बन चुका है, और इसकी शुरुआत हुए करीब 15 दिन बीत चुके है, कांकेर जिले में भी खुलेआम ऐप बनाकर सट्टा खिलवाया जा रहा है लेकिन अब तक पुलिस सट्टेबाजो तक नही पहुंच सकी है,. जिले में स्वास्तिक बुक नाम से ऑनलाइन सट्टा का कारोबार चल रहा है. जिसके तहत स्वास्तिक बुक नाम से आईडी बांट कर करोड़ो का दाव लगाया जा रहा है. हैरानी की बात यह है कि बीते साल इसी कांकेर जिले में लगभग 3 करोड़ के सट्टा का भंडाफोड़ पुलिस ने किया था लेकिन प्रमुख खाई वाल तक पुलिस नही पहुंच पाई थी, जाहिर सी बात है की इस बार भी उक्त खाई वाल के द्वारा जोर शोर से सट्टा का कारोबार चलाया जा रहा है लेकिन पुलिस अब तक इसे दबोचने में कामयाब नही हो सकी है, सट्टा किंग के नाम से मशहूर कांकेर का एक व्यापारी जो की कई बार सट्टेबाजी में जेल की हवा खा चुका है वो इस बार स्वास्तिक ऐप के नाम से आईडी बनाकर लोगो के करोड़ो रुपए दांव पर लगा रहा है, जिसका नम्बर भी हमारे संवाददाता के हाथ लगा है, इसी नम्बर से पैसे का लेन देन ऑनलाइन किया जा रहा है, ऐसे में पुलिस के साइबर सेल पर भी कई तरह के सवाल खड़े हो रहे है।
पूरे मामले को लेकर कांकेर एसपी ने बताया कि जानकरी प्राप्त हुआ है स्वास्तिक के नाम से ऑनलाइन बैटिंग करने ऑनलाइन साइट और नम्बर दिया जा रहा है. पूरे मामले में जांच किया जाएगा और इस अवैध काम मे जो भी संलिप्त है उसके खिलाफ कड़ी कार्यवाही किया जाएगा. जिले में सभी प्रकार के ऑनलाइन सट्टा एवं सट्टा पटटी खेलने व खिलाने वाले के विरुद्ध कड़ी कार्यवाही करने हेतु निर्देशित किया गया है. जो भी बैटिंग गैम्बलिंग जैसे अवैध काम कर रहे है उन पर कार्यवाही किया जाएगा.


आईपीएल को शुरू हुए 17 दिन बीत चुके हैं और कांकेर जिले में आईपीएल सट्टे से जुड़ा एक भी मामला सामने नहीं आया है. पिछले साल जहां अब तक जिले के अलग-अलग थानों में आईपीएल सट्टे के मामले बन चुके थे लेकिन इस बार ऐसा नहीं हो पाया है. ऐसे में शहर में यह चर्चा आम हो चुकी है कि क्या कांकेर आईपीएल के सट्टे से मुक्त हो चुका है. सट्टे के अवैध कारोबार की पड़ताल की तो पाया कि यह सट्टे का साम्राज्य पहले की तरह की फल-फूल रहा है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।

आप अपने क्षेत्र के समाचार पढ़ने के लिए वैबसाईट को लॉगिन करें :-
https://www.lokhitexpress.com

“लोकहित एक्सप्रेस” फेसबुक लिंक क्लिक आगे शेयर जरूर करें ताकि सभी समाचार आपके फेसबुक पर आए।
https://www.facebook.com/Lokhitexpress/

“लोकहित एक्सप्रेस” YouTube चैनल सब्सक्राईब करें :-
https://www.youtube.com/lokhitexpress

“लोकहित एक्सप्रेस” समाचार पत्र को अपने सुझाव देने के लिए क्लिक करें :-
https://g.page/r/CTBc6pA5p0bxEAg/review