एंजेल एंग्लो हाई स्कूल में 19वीं वार्षिक स्पोर्ट्स मीट का हुआ समापन, छात्र-छात्राओं संग फैकल्टी ने लिया हिस्सा येलो हाउस की टीम ने मारी बाज़ी
January 11th, 2024 | Post by :- | 143 Views

गरियाबंद_ ज़िले के एंजेल एंग्लो हाई स्कूल में दो दिवसीय स्पोर्ट्स मीट का समापन हुआ, स्पोर्ट्स मीट के दौरान एनुअल स्पोर्ट्स में कई खेल जैसे – वॉलीबॉल, कबड्डी, खो-खो, रेस का आयोजन किया गया,

जिसमे कक्षा-1 से कक्षा-12 वीं के गर्ल्स व बॉयज़ ने बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया था,बच्चों को 4 टीम में बांटा गया था, रेड हॉउस, येलो हॉउस, ब्लू हाउस और ग्रीन हाउस, जिसमें से येलो हाउस के बच्चों ने उमा गोस्वामी मैम और चुलेश्वरी ध्रुव मैम के मार्गदर्शन में सबसे ज्यादा अंक (200) के साथ प्रथम स्थान प्राप्त किया तथा चिराग नेताम मैम और प्राची कुटारे मैम के मार्गदर्शन में 135 अंकों के साथ दूसरा स्थान प्राप्त किया रेड हाउस ने।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।

बच्चों के सर्वांगीण विकास के लिए खेल जरूरी है। खेलो से बच्चों का शारीरिक विकास तो होता है साथ ही खिलाड़ी भावना से स्व अनुशासन की भावना भी पनपती है।- प्राचार्य स्टेफ़र्ड बंस

प्राचार्य स्टेफ़र्ड बंस ने प्रेस वार्तालाप पर लोकहित एक्सप्रेस न्यूज़ को बताया कि एंजेल एंग्लो हाइस्कूल में बच्चों की पढ़ाई के साथ सभी एक्टिविटी का ख़ासा ध्यान रखा जाता है पर स्पोर्ट्स को लेकर मैं और मेरी पूरी टीम बेहद रोमांचित रहते है इसका मुख्य कारण ये भी है स्पोर्ट्स के माध्यम से हम एक दूसरे के साथ समूह बना कर रखते हैं सीखते है जितना सीखते है और एक टीम बना कर रहना भी पूरी यूनिटी के साथ, खेल से बेहतर कोई शिक्षा नहीं

विभिन्न वातावरणों में अन्य बच्चों के साथ खेलना वस्तुतः बच्चों के लिए सीखने, अभ्यास करने और स्वयं को अभिव्यक्त करने के लिए एक सुरक्षित स्थान बनाने के लिए बुनियादी आधार तैयार करता है।

सामाजिक संरचना में सीखना

अधिकांश शिक्षण गतिविधियाँ व्यक्तिगत फोकस और एक अलग वातावरण में गहनता से अध्ययन करने पर केंद्रित होती हैं। खेलते समय, लुका-छिपी से लेकर टैग खेलने तक, आपका बच्चा समूह की गतिशीलता को समझता है और सीखता है और लोग एक-दूसरे के साथ कैसे बातचीत करते हैं।

बच्चों और वयस्कों के बीच संचार

माता-पिता-बच्चे की गतिशीलता में, केवल अनुशासनात्मक या आधिकारिक संचार होना एक अच्छे माता-पिता होने से संबंधित नहीं है। अपनी सुरक्षा को कम करना और अपने बच्चे के साथ उनके स्तर पर जुड़ना बंधन को और मजबूत करता है, और उन्हें यह भी सिखाता है कि अन्य वयस्कों के साथ विनम्र तरीके से कैसे बातचीत करनी है।

कार्यक्रम के पश्चयात् सभी विजेताओं को स्कूल के प्राचार्य स्टेफर्ड बंस के द्वारा मैडल और सर्टिफिकेट से पुरष्कृत किया गया।विजेता टीमों को प्रोत्साहित किया।

आप अपने क्षेत्र के समाचार पढ़ने के लिए वैबसाईट को लॉगिन करें :-
https://www.lokhitexpress.com

“लोकहित एक्सप्रेस” फेसबुक लिंक क्लिक आगे शेयर जरूर करें ताकि सभी समाचार आपके फेसबुक पर आए।
https://www.facebook.com/Lokhitexpress/

“लोकहित एक्सप्रेस” YouTube चैनल सब्सक्राईब करें :-
https://www.youtube.com/lokhitexpress

“लोकहित एक्सप्रेस” समाचार पत्र को अपने सुझाव देने के लिए क्लिक करें :-
https://g.page/r/CTBc6pA5p0bxEAg/review