लखीमपुर खीरी अपात्रों को आवास, पात्रों को नही पंचायत भवन मरम्मत के नाम पर लाखों का वारा न्यारा जर्जर शौचालय ,पेय जल व्यवस्था पर भुगतान, ग्रामीणों ने उठाई जांच की मांग।
December 6th, 2023 | Post by :- | 128 Views

लखीमपुर खीरी (उत्तर प्रदेश)। 

लखीमपुर खीरी। विकासखंड मितौली ग्राम पंचायत दरी नगरा में गांव विकास योजनाओं के लिए आए हुए धन के दुरुपयोग किए जाने के आरोप लगाते हुए जांच की मांग की है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।

विकास व्यवस्थाओं पर गंभीर आरोप लगाते हुए उच्च अधिकारियों से गांव में किए गए विकास कार्यों में धन के दुरुपयोग किए जाने की शिकायत सीएम पोर्टल पर करते हुए जांच की मांग की है कई बिंदुओं पर जो धन विकास कार्यों में कागजों पर खर्च किया गया है उनकी जमीनी हकीकत कुछ और ही है ऐसे आरोप गांव के कई ग्रामीणों ने प्रार्थना पत्र देते हुए पिछले कई महीनो से जांच की मांग कर रहे हैं। शिकायतकर्ताओं ने बताया खंड स्तर से लेकर के जिला स्तर तक के अधिकारियों को जांच के लिए कई बार प्रार्थना पत्र दे चुके हैं उसके बाद भी निष्पक्षता से किसी भी अधिकारी ने जांच करने की जरूरत नहीं उठाई है जिसके चलते विकास व्यवस्थाओं पर खर्च किए गए धन के दुरुपयोग की प्रबल संभावना बनी हुई है यह निष्पद जांच कर दी जाए तो करोड़ों धान में हुए बंदरबांट का सच उजागर हो सकेगा।

सरकारें गांवों को हाईटेक कर सभी सुविधाओं से सुसज्जित करने के उद्देश्य से करोड़ों की धन राशि गांवों के विकास कार्यों के लिए भेजी जाती है किंतु जिम्मेदारों की खाऊं कमाऊ नीति के चलते विकास कार्यों का बेड़ा गर्क हो रहा है ।
जी हां, अपने खाऊ कमाऊ विकास कार्यों को लेकर कई बार सुर्खियों में रही ग्राम पंचायत दरी नगरा में अपात्रों को आवास और पत्रों को अनदेखा करने को लेकर ग्रामीणों ने उच्चाधिकारियों समेंत सूबे के मुखिया योगी आदित्यनाथ से शिकायती पत्र भेजकर न्याय की गुहार लगाई है।

जहां एक ओर गांवों में ही नागरिकों को सभी सुविधाओं को मुहैया कराने को लेकर गांव स्तर पर पंचायत भवन/ मिनी साचिवालयों का निर्माण कराया गया। किंतु वर्तमान प्रधानी कार्यकाल में ग्राम पंचायत दरी नगरा में सचिवालय/पंचायत भवन मरम्मत को लेकर लाखो रुपए खर्च किए गए।
सचिवालय की मरम्मत हुई लाखो वारे न्यारे हुए किंतु न तो पंखा और न ही कोई पेय जल की व्यवस्था और उक्त पंचायत भवन में शौचालय तो रामभरोषे कब गिर जाए कुछ नही कहा जा सकता।
सबसे बड़ा सवाल तो यह है की विकास खंड स्तर से लेकर सोशल आडिट टीम भी जांच करती है किंतु विकास कार्य अधिकारियों कर्मचारियो की जेबें भरने के शिवाय कुछ नही।
आखिर विकास कार्यों के लिए आई धनराशि कहां गई ? ग्रामपंचायत में जबर्दस्त आ रही भ्रष्टाचार की बू।
क्रमशः

आप अपने क्षेत्र के समाचार पढ़ने के लिए वैबसाईट को लॉगिन करें :-
https://www.lokhitexpress.com

“लोकहित एक्सप्रेस” फेसबुक लिंक क्लिक आगे शेयर जरूर करें ताकि सभी समाचार आपके फेसबुक पर आए।
https://www.facebook.com/Lokhitexpress/

“लोकहित एक्सप्रेस” YouTube चैनल सब्सक्राईब करें :-
https://www.youtube.com/lokhitexpress

“लोकहित एक्सप्रेस” समाचार पत्र को अपने सुझाव देने के लिए क्लिक करें :-
https://g.page/r/CTBc6pA5p0bxEAg/review