सीआरएसएफ के पूर्व डिप्टी कमांडर की बेटी को चढाया दहेज की बलि,
August 22nd, 2019 | Post by :- | 58 Views

हत्या के तीन महीने बाद भी हत्यारे गिरफ्त से बाहर |

हसनपुर  पलवल (मुकेश वशिष्ट)  :- सीआरएसएफ में पूर्व डिप्टी कमांडर व राष्ट्रपति से सम्मानित गोकल चंद की पुत्री मोनिका की दहेज के लिए हत्या करने वाले ससुराल वालों की गिरफ्तारी ना होने पर उनके व उनके परिजनों में प्रशासन के प्रति रोष व्यापत है। पूर्व डिप्टी कमांडर गोकल चंद ने फरीदाबाद पुलिस प्रशासन पर हत्यारों से मिलीभगत के आरोप लगाए है। प्रशासन के दर पर ठोकरें खाने के बाद भी ना तो उनकी कहीं सुनवाई हो रही है और ना ही उन्हें इंसाफ मिल पा रहा है।

पलवल के असावटा मोड रामनगर कालोनी में रहने वाले गोकल चंद ने देश सेवा में अपना जीवन व्यतीत कर दिया। वह सीआइएसएफ में डिप्टी कमांडर पद से 2013 में रिटार्यड हो गए। गोकल चंद ने अपने परिवार के साथ 1999 में पूर्व प्रधानमंत्री अटलबिहारी के साथ खाना खाया और 2008 में पूर्व राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल ने इन्हें विशिष्ट सेवा मैडल देकर सम्मानित किया था। गोकल चंद पर दो पुत्र व एक पुत्री है। गोकल चंद ने बताया कि उसने अपनी पुत्री मोनिका की शादी सन् 2015 में गांव पाली फरीदाबाद निवासी सचिन के साथ की थी। उसने अपनी हैसियत के अनुसार शादी में पूरा दान-दहेज दिया और शादी में लगभग 50 लाख रुपये खर्च किए। लेकिन ससुराल वाले दहेज के लोभी होने के कारण वह उसकी पुत्री के साथ मारपीट करते रहे ।

कई बार उन्होंने पंचायत के माध्यम से ससुराल वालों को समझाया भी था। गोकल ने बताया कि दहेज में गाडी व नगदी ना मिलने पर 28 मई 2019 को मेरी लडकी मोनिका को उसके पति सचिन, ससुर मुखराम, सास रामपाली, जेठ पवन, जेठानी सीमा ने योजनाबद्ध तरीके से मार डाला और मारने के बाद उसे पास के ही अस्पताल में बीमार कहकर भर्ती करा दिया। गोकल ने बताया कि हमने मामले की शिकायत पुलिस को दी और ससुराल वालों को दहेज हत्या का मामला दर्ज करा दिया। गोकुल चंद ने बताया कि फरीदाबाद पुलिस शायद हत्यारों से मिली हुई है और हत्या को तीन महीने बीतने के बावजूद भी अभी तक हत्यारों की गिरफ्तारी नहीं की है। गोकल ने बताया कि सीएम विंडो व पुलिस के आला अधिकारियों के बार-बार चक्कर लगाने के बावजूद भी उन्हें इंसाफ नहीं मिल पा रहा है। इसके अलाव हत्यारे उन्हें मामला दबाने की धमकी दे रहे हैं और पुलिस मामले में देरी कर सबूत मिटाने का प्रयास कर रही है। कही भी सुनवाई नहीं होने के कारण आज उन्हें देश की सेवा के लिए बिताए गए जीवन आज उन्हें अफसोस हो रहा है।
क्या कहते हैं जांच अधिकारी :- मामले में जांच अधिकारी जगबीर सिंह का कहना है कि उन्हें मृतक मोनिका की सभी रिपोर्ट मिल चुकी है। इस मामले को लेकर बोर्ड की बैठक होने के बाद ही आरोपियों की गिरफ्तारी की जाएगी।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।