मानवीय फ्रिज में मिलेगा जरूरतमंद लोगों को दो वक्त का भोजन : छाबड़ा परिवार
October 10th, 2019 | Post by :- | 299 Views

         लोकहित एक्सप्रेस

पलवल / प्रवीण आहूजा

जिला पलवल में पहली बार एक ऐसी मानव सेवा की मिसाल दी गई है जिसकी कभी कल्पना भी नहीं की गई थी कहते हैं कि मानव सेवा ही नारायण सेवा कहलाती है लोगों को प्रेरणा देने की मिसाल कल जवाहर नगर कैंप में स्वर्गीय मनोहर लाल छाबड़ा की स्मृति में उनके पुत्रों रतनलाल छाबड़ा एवं कृष्ण कुमार छाबड़ा ने अपने स्वर्गीय पिता की स्मृति में एक डबल डोर एक हजार लीटर का फ्रिज अपने घर के बाहर गरीब लोगों की सेवा हेतु लगाकर महामंडलेश्वर कामता दास महाराज के आशीर्वाद से शुभारंभ कर एक अनूठी मिसाल पेश की है। इस फ्रिज का नाम परिवार की ओर से माननीय फ्रिज रखा गया है यह फ्रिज उन लोगों को समर्पित है जिन्हें दो वक्त की रोटी के लिए ना जाने कहां-कहां भटकना पड़ता है। यह जानकारी देते हुए  कृष्ण कुमार छाबड़ा ने बताया यह फ्रिज उन लोगों के लिए है जो बचे हुए खाने को व्यर्थ नहीं करना चाहते हैं इसमें कोई भी स्थानीय व्यक्ति घर से दो रोटी और थोड़ी सी सब्जी अपने घर से लाकर कर रख सकता है और जो भी भूखा पेट का व्यक्ति है जिसे भोजन की जरूरत है वह किसी भी समय यहां से ले जाकर खा भी सकता है जरूरतमंद लोगों के लिए खाना हमेशा उपलब्ध रहेगा ।

मानवीय फ्रिज शुभारंभ के अवसर पर महामंडलेश्वर कामता दास महाराज ने बताया कि यह परिवार की ओर से एक अच्छी पहल है जिससे स्थानीय लोगों को प्रेरणा मिलेगी कि मानव सेवा से ही नारायण प्रसन्न होते हैं । अगर किसी भूखे व्यक्ति को अन्न का दान दिया जाता है वह इस पृथ्वी पर सर्वोच्च दान कहलाया जाता है उन्होंने कहा भूखा ना सोए कोई यह बड़ा ही चकित करने वाला शब्द है आज हमारे देश में 40 प्रतिशत लोग भूखे सोने को मजबूर है। उन्होंने बताया कि समाज के लोगों को ऐसी मिसाल देखकर अपने अंदर एक प्रेरणा लेनी चाहिए कि मानव सेवा से ही हर व्यक्ति का कल्याण होता है और इस सेवा के लिए सभी लोगों को अपना सहयोग देना चाहिए ताकि जो जरूरतमंद लोग हैं उन्हें दो वक्त का खाना मिल सके इस अवसर पर पंजाबी सभा के पूर्व प्रधान ईश्वर चंद अरोड़ा सभा के वरिष्ठ नेता तीरथ दास रहेजा, रतन कुमार छाबड़ा राजू भैया, भगत सिंह डागर, युग डागर ,अशोक सरदाना, राजकुमार भाटिया, पारस छाबड़ा व सैकड़ों की संख्या में लोग मौजूद थे।

 

 

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।