मेरी माँ ने ऐसी सौगात दे दी, जागरण के लिए सारी रात दे दी
October 8th, 2019 | Post by :- | 180 Views

-महुकलां में सजा माँ का दरबार, कोटा की शिव शंकर पार्टी के कलाकारों ने बहाई भजनों की गंगा
गंगापुरसिटी। सोमवार की रात महुकलां में पूरी रात श्रद्धलुओं ने भजनों की गंगा में डुबकी लगाई। मौका था माँ भगवती नवरात्रा समिति की और से महुकलां में चल रहे दुर्गा महोत्सव में आयोजित भगवती जागरण का। जागरण में कोटा की शिव शंकर पार्टी के कलाकारों ने एक से बढ़कर माता देवी सहित अन्य भजनों की प्रस्तुति देकर श्रोताओं को भाव विभोर कर दिया। भजनों को सुनने के लिए भक्त देर रात तक दुर्गा पांडाल में जमा रहे। काफी भक्तो ने कलाकारों के साथ भजनों पर डांस कर माता के दरवार में हाजिरी लगवायी। पार्टी के मुख्य कलाकार प्रेम जी के हिंदी, राजस्थानी और हाड़ौती भाषा के भजनों पर युवाओं ने खूब ठुमके लगाए।
समिति अध्यक्ष अशोक शाक्यवाल ने बताया कि भजनों की शुरुआत माताजी की प्रतिमा के समक्ष दीप प्रज्वलित करने के साथ हुई। इसके बाद गणेश वंदना कृपा करो महाराज गाकर माता का आह्वान किया। प्रेमजी ने चौथ माताजी का राजस्थानी भजन सुनकर मन्त्र मुग्ध कर दिया। उन्होंने बरवाड़े में चालो रे भक्ता बरवाड़े में चालो रे देवी माता के चलो रे सुनाया तो हर कोई थिरकने पर मजबूर हो गया। समिति अध्यक्ष अशोक ने सपत्नीक नृत्य कर माता के दरवार में हाजिरी लगायी। कलाकार मनोज गुर्जर, उत्तम कुमार, मुकुट, उमेश, सलीम आदि ने भी चलो बुलावा आया है माता ने बुलाया है, माता ने ऐसे सौगात दे दी, जागरण के लिए रात दे दी, प्यारा सजा है तेरा द्वार भवानी, शेर पर सवार होकर आ जा शेरा वालिये, ओ जंगल के राजा मेरी मैया को लेकर आजा, राम जी चले ना हनुमान के बिना, हनुमान जी न चले राम जी के बिना आदि भजन सुनाकर रात भर श्रोताओं की तालिया बटोरी। गायक मनोज गुर्जर ने बिजासन माताजी की भेंट माताजी के मंदिर में आज मैं तो नाचूंगी सुनाकर महिलाओं को झूमने पर मजबूर कर दिया। कार्यक्रम में समिति के कार्यकर्त्ता विजेंद्र शाक्यवाल, कुणाल, नवीन, सोनू, विक्की, दीपक, हेमा, ललिता, हरी प्रसाद आदि का सहयोग रहा। जागरण में माता जी की प्रतिमा को आकर्षक रूप से सजाया गया।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।