तोशाम हल्के के गांव बुशान मे चुनावी चर्चाओ ने पकड़ा जोर
October 3rd, 2019 | Post by :- | 85 Views

तोशाम 3 अक्टूबर (गौड़ संवाददाता)

तोशाम से 19 किलोमीटर दूर स्थित गांव बुशान मे चुनावी चर्चाओ ने पूरा जोर पकड़ा हुआ है। बंशीलाल परिवार का गढ माना जाने वाला तोशाम हल्के की जनता का आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर क्या विचार है यहा की जनता अबकी बार किसी अन्य दल के नेता को मौका देगी या पिछले विधानसभा चुनाव की तरह ही बंशीलाल परिवार का साथ देगी।यह तो समय ही बताएगा लेकिन सभी राजनैतिक दल बंशीलाल परिवार के किले को भेदने की पूरी तैयारी मे है। जनता सभी राजनैतिक दलों की तैयारी में कितना सहयोग देगी या फिर पूर्व विधायिका को ही चौथी बार विधानसभा में भेजेगी ।जनआशीर्वाद यात्रा लेकर तोशाम पहुंचे मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने स्वय कहा था कि 75 मंजूर तो तोशाम जरूर। लेकिन किरण समर्थक कहते हैं कि मैडम के समक्ष भाजपा की लहर फिकी है लेकिन राजनीतिक मे सब-कुछ सम्भव है। दूसरी तरफ जेजेपी व अन्य राजनीतिक दल भी इस सीट को पहली बार अपने पाले में डालने के लिए पूरा जोर लगाए हुए हैं। जनता का मूड अबकी बार क्या कहता है यह जानने के लिए जब संवाददाता बाबा भैरू नाथ ग्रीन पार्क बुशान मे पहुचा तो हुक्के पर बैठे लोगों मे हो रही चुनावी चर्चा से जाना तो वहा बैठै एक युवा प्रदीप कुमार ने बताया कि हमारे गांव में मैडम ने काफी काम करवाए थे और आड़ त तो मैडम किरण ही जितेगी।इसी बीच हुक्का गुड़गुड़ाते हुए प्रधान उमेश दुकानदार ने कहा कि दुष्यंत आली पार्टी तै जे दमदार प्रत्याशी आगा तो मैडम ने मुस्किल हो जागी।बीच में बात काटते हुए बंशीलाल शर्मा ने कहा कि भाजपा की किसी ए लहर हो उरे तै तो मैडम किरण जितेगी।इसी बीच बाबा भैरू नाथ लाइब्रेरी केन्द्र के सचिव मा. अमित ने कहा कि जो राजनैतिक दल युवा की आवाज को उठाएगा हम तो उसका साथ देंगे।हुक्के की गुट भरते हुए सोमबीर ने कहा कि बात न्यू स तोशाम म्ह कांग्रेस, भाजपा अर जेजेपी का त्रिकोणीय मुकाबला रवेगा।इस प्रकार हुक्के पर चर्चा करते हुए लोगों के विधानसभा चुनाव को लेकर अलग अलग विचार सुनने को मिले।अब देखना यह होगा कि आगामी विधानसभा चुनाव में तोशाम हल्के की जनता विधायक का ताज मैडम किरण चौधरी के सिर पर रखना चाहेगी या अन्य किसी नेता को यहा से विधानसभा मे जाने का मौका मिलेगा।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।