प्रवीण कुमार कटारा ने जय नारायण व्यास विश्वविद्यालय जोधपुर से हिंदी में डॉक्टरेट की उपाधि प्राप्त की।
September 30th, 2019 | Post by :- | 198 Views

बांसवाडा(अरूण जोशी)
प्रवीण कुमार कटारा में जय नारायण व्यास विश्वविद्यालय जोधपुर से पीएचडी की उपाधि प्राप्त की इन्होंने वागड़ संस्कृतिः स्वरूप और विशेषताएं- एक अनुशीलन विषय पर हिंदी विभाग के एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. श्रवण कुमार रोलन के निर्देशन में की। प्रवीण कुमार कटारा ने जय जयनारायण व्यास विश्वविद्यालय जोधपुर के हिंदी विभाग से पूर्व में एम.फिल की डिग्री भी प्राप्त की हिंदी के जाने-माने कथाकार ,साहित्यकार और पूर्व विभागाध्यक्ष पत्रकारिता के डॉ. सत्यनारायण के निर्देशन में वागड़ का जलियांवाला बाग कहां जाने वाला प्रसिद्ध स्थान मानगढ़ धाम के ऊपर लिखा ऐतिहासिक उपन्यास राजस्थान के पूर्व डीआईजी और विख्यात साहित्यकार श्री हरिराम मीणा के उपन्यास धूणी तपे तीर पर भी उन्होंने एम.फिल में भी लघु शोध भी किया। कटारा ने कई राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय सेमिनार में भाग लिया और उनके 4 लेख भी प्रकाशित हो चुके हैं। कटारा ने जम्बूखंड निजी महाविद्यालय में भी लेक्चरर के तौर पर सेवाएं दे चुके हैं। वर्तमान में प्रवक्ता ब्लॉक कांग्रेस कमेटी कुशलगढ़ पत्नी सुनीता कटारा अध्यापिका और पूर्व जिला परिषद सदस्य रह चुकी हैं पिता श्री खातुराम कटारा नायब तहसीलदार के पद पर सज्जनगढ़ में पदस्थ हैं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।