बीआरसीएम पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव कार्यक्रम का आगाज बड़े धूमधाम से हुआ।
September 30th, 2019 | Post by :- | 83 Views
बीआरसीएम पब्लिक स्कूल का वार्षिकोत्सव कार्यक्रम का आगाज बड़े धूमधाम से हुआ।

बहल, (शक़ील अहमद)
बीआरसीएम पब्लिक स्कूल ज्ञानकुंज बहल के प्रांगण में आज बीआरएचडी चैरिटेबल ट्रस्ट के स्वयं सहायता समूह एवं कौशल विकास केन्द्र का दशम् वार्षिक अधिवेशन बड़ी धूमधाम से मनाया गया। कार्यक्रम का शुभारम्भ मुख्य अतिथि पदम प्रकाश गुप्ता, सिनीयर प्रोफेसर(रिटायर्ड) चौधरी चरण सिह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय हिसार एवं विशिष्ट अतिथि जनार्दन चौधरी, बीआरएचडी ट्रस्ट के चेयरमैन श्री हरिकिशन चौधरी, ऊर्मिला चौधरी, सोहन लाल, नाबार्ड, नागरमल जी अग्रवाल, नरेश चौधरी द्वारा दीप प्रज्ज्वलित कर हुआ।

कार्यक्रम की अध्यक्षता बीआरएचडी चैरिटेबल ट्रस्ट के चेयरमैन श्री हरिकिशन चौधरी ने की। तत्पश्चात बीआरसीएम शिक्षण समिति के निदेशक डॉ. एस. के. सिन्हा ने स्वागत शब्द कहे और ट्रस्ट की जनकल्याणकारी योजनाओं का उल्लेख किया। ‘नन्हे कदम के छात्रों ने स्वागत गीत के माध्यम से सभी का अभिनंदन किया।

प्रोजेक्ट लीडर श्रवण कुमार लाम्बा ने इस मौके पर ग्रामीण विकास एवं कौशल विकास केन्द्र की वार्षिक रिपोर्ट पेश की और नव-पंजीकृत सदस्यों का परिचय भी करवाया। विशिष्ट अतिथि ने कहा कि लड़कियों का सम्मान करने से ही आज के युग में बदलाव आएगा। एक आदर्श समाज की कल्पना तभी साकार होगी जब लड़कियों को शिक्षित व आत्मनिर्भर बनाया जाएगा।

पदम प्रकाश गुप्ता ने अपने अभिभाषण में नारी उत्थान के बारे में बताया। उन्होंने गाँवों की महिलाओं से आग्रह किया कि अधिक से अधिक महिलाएं स्वयं सहायता समूह से जुडें और आने वाले भविष्य के लिए बचत का एक उचित रास्ता अपनाएं। उन्होंने कहां कि गांव व शहरों के अंतर को कम किया जाए और प्रधानमंत्री का लक्ष्य किसानों की आय दोगुनी हो उस मिशन को साकार करने के लिए कृषि में नई तकनीकीओं का प्रयोग करें । उन्होंने कहा कि बीआरसीएम द्वारा किए जा रहे प्रयास बहुत ही लाभकारी व सराहनीय हैं।

बीआरएचडी चैरिटेबल ट्रस्ट के चेयरमैन हरिकिशन चौधरी ने मंच के माध्यम से घोषणा कि हम बहल क़स्बे एवं उनके आस – पास के इलाके की युवा प्रतिभाओं हेतु कौशल विकास केन्द्र खोल रखा है जिसमें सिलाई, बैसिक कम्प्यूटर कॉर्स व ब्यूटी पार्लर आदि का कोर्स करवाया जा रहा है।उन्होंने महिलाओ से आग्रह किया कि उन्हे अपने रूढ़ीवादी विचारधारा को त्याग कर परिवार व समाज को साथ लेकर आगे बढ़ सकती हैं मातृशक्ति से आह्वान किया कि लड़कियों को शिक्षित करने पर अधिक बल दें। उन्होंने इस पावन अवसर पर कहा कि नारी समाज और राष्ट्र को सफलता की ऊँचाइयों तक ले जा सकती है आज आवश्यकता नारी को सम्मान, स्नेह और आत्मविश्वास देने की है जिससे समाज व राष्ट्र का उद्दार हो सके । उन्होंने कहा कि व्यक्ति को अपने जीवन पथ पर अग्रसर होने के लिए तीन चीजों की आवश्यकता है शिक्षा, स्वास्थ्य और रोजगार।

इस शुभावसर पर बीआरएचडी ट्रस्ट के चेयरमैन हरिकिशन चौधरी एवं रूकमणी देवी कल्याण ट्रस्ट के चेयरमैन नागरमल अग्रवाल के द्वारा सतरंगी टेलरिंग यूनिट का उद्घाटन भी किया गया। तत्पश्चात सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन हुआ। सर्वश्रेष्ठ सहायता समूह का डॉ. सोहनलाल मानिकटला पुरस्कार गाँव सोरड़ा कदीम के किसान बीआरएचडी स्वयं सहायता समूह को दिया गया। जिसमे 19 महिला सदस्य है।

इस अवसर पर विशिष्ट कार्य करने हेतु विभिन्न सदस्यों को पुरस्कृत भी किया गया । गोकुलपुरा से लक्ष्मी बीआरएचडी स्वयं सहायता समूह की मंजू देवी, कलाली से गणेश बीआरएचडी स्वयं सहायता समूह की सरिना एवं मिठ्ठी से ओम नमः बीआरएचडी स्वयं सहायता समूह की ममता को सम्मानित किया गया। किसान उत्पाद संघ द्वारा बैस्ट प्रमोटर के लिए विनोद कुमार को अवार्ड दिया गया और सुखराम पातवान को बैस्ट ईन्टरप्रेनर के अवार्ड से नवाजा गया। उसके बाद स्वयं सहायता समूह द्वारा निर्मित उत्पादों की प्रदर्शनी का अवलोकन भी किया गया एवं उत्पादों की खूब प्रशंसा की।

‘नन्हें कदम‘ के बच्चो सपना, राहुल, हर्षिता, रोनक सरिता, विपिन व रोहित ने पर्यावरण संरक्षण पर नाटक पेश किया।
‘नन्हें कदम‘ के बच्चों पायल, स्नेहा, लक्ष्मी, प्रिया, पलक, मोनिका, भूमिका व अनामिका ने डिस्को डांस के माध्यम से सभी दर्शकों को तालियां बजाने पर भी मजबूर कर दिया।
सुशीला एवं रेखा व शकुंतला की टीम ने ‘महिलाओं को सशक्त व आत्मनिर्भर बनने के लिए एक नाटक के माध्यम से स्वयं सहायता की महिलाओं को प्रेरित भी किया।
इस कार्यक्रम का मँच का संचालन ज्ञानकुंज के अध्यापक धर्मेन्द्र शास्त्री व दो छात्राएं हिमानी व निशा द्वारा किया गया। हैडबॉय विनय श्योराण ने उपस्थित सभी अतिथियों व आस-पास के गाँवों से पधारे हुए महानुभावों और प्रतिभागियों का धन्यवाद किया।

इस अवसर पर सीएफओ मनीष खत्री, जीड़ीसी कॉलेज के प्राचार्य डॉ. एसके मिश्रा, अरबिन्दा शर्मा, सुंदर सिंह, ज्ञानकुंज के प्रधानाध्यापक राजेश झाझड़िया, प्रवीण मस्ता, आरडीएनएल स्कूल की प्रिंसिपल बबीता भारद्वाज, एसके लाम्बा सहित संस्थान के अध्यापक एवं कर्मचारी मौजूद रहे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।