नवरात्रि नौ दिनों तक चलने वाले उत्सव के दौरान कई धार्मिक आयोजन चलेंगे।
September 30th, 2019 | Post by :- | 105 Views

बांसवाड़ा[अरूण जोशी]
कुशलगढ़ मे शक्ति और आराधना का पर्व नवरात्रि नौ दिनों तक चलने वाले उत्सव के दौरान कई धार्मिक आयोजन चलेंगे। इस दौरान चलने वाले गरबा की भी अधिक धूम रहेगी। अंबाजी माता मंदिर,माता मगरी,रतलाम रोड,लक्ष्मी माता मंदिरों पर रात्रि मे गरबा खेलें जाएंगे। वही दुर्गा उत्सव शुरू होते युवक-युवतियों व बच्चों में खासा उत्साह देखा जा रहा है। अंबाजी माता मंदिर,माता मगरी,रतलाम रोड,लक्ष्मी माता मंदिरों पर भक्तों की प्रतिदिन भारी भीड़ उमड़ेगी। मंदिर परिसर की विशेष साज-सज्जा की गई हैं। आकर्षक एवं रंग बिरंगी झालरों की सजावट की गई हैं। अंबाजी माता मंदिर,माता मगरी,रतलाम रोड,लक्ष्मी माता मंदिरों पर नवरात्र के दौरान नौ दिनों तक भक्तों का सैलाब उमड़ेगा। यहां माताजी का प्रतिदिन अलग-अलग श्रृंगार किया जाएगा। शाम को आरती के बाद प्रसादी का वितरण होगा। अंबाजी माता मंदिर ओर माता मगरी मंदिरों पर लगातार नौ दिन तक अखंड़ ज्योति जलाई जावेगी। घट स्थापना के बाद गरबों की शुरुआत होगी। गरबा गायन के लिए आयोजक समितियों ने ऑर्केस्ट्रा पार्टियां का आयोजन किया गया है।, जिनकी सुमधुर गरबों की धुन पर युवक-युवतियां गरबा खेलेंगे। नौ दिनों तक युवक-युवतियां गरबा कर आदिशक्ति दुर्गा की आराधना करेंगे। देवी माता को प्रसन्न करने के लिए भक्तों द्वारा माता के कई तरीकों से उपवास किए जाते हैं। नौ दिन तक युवक-युवतियां एवं महिलाएं बिना चप्पल पहने, तो कोई उपवास रख कर, काई मौन धारण कर माता को प्रसन्न करते हैं। साथ ही नौ दिन तक पूजा-अर्चना करते हैं। नवदुर्गा उत्सव में गरबा रास की खासी धूम रहेगी। एक तरफ माता के दरबार में भक्तों का तांता लगेगा तो दूसरी तरफ धूमधाम से रात के समय गरबे की धूम रहेगी। नवरात्रि के पावन पर्व पर घटस्थापना के शुभ मुहूर्त पर पंडित लोकेंद्र पंड्या के सानिध्य में यजमान ठाकुर हंसराज सिंह झाला व ठाकुर करण सिंह राठौड़ के उपस्थिति में घट स्थापना की गई इस मगरी माता पहाड़ी पर स्थित अंबे माता मंदिर परिसर में प्रतिवर्ष सरस्वती सांस्कृतिक मंच द्वारा भव्य आयोजन किया जाता है। वह डांडिया रास खेला जाता है। जहां नगरी में अभी तो आसपास क्षेत्र के हजारों भक्तगण शिरकत करते हैं।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।