बसपा ने हथीन से तैय्यब हुसैन भीमसीका व जजपा ने पूर्व मंत्री हर्ष कुमार को बनाया है उम्मीदवार
September 29th, 2019 | Post by :- | 116 Views

मेवात (सद्दाम हुसैन) हथीन विधान सभा क्षेत्र में टिकट वितरण में कांग्रेस व भाजपा से पहले जजपा व बसपा ने बाजी मारी है। बसपा द्वारा रविवार को जारी की गई 41 उम्मीदवारों की सूची में हथीन से बसपा ने तैय्यब हुसैन भीमसीका को अपना उम्मीदवार बनाया है। जजपा यहां से पूर्व मंत्री हर्ष कुमार को पहले ही अपना प्रत्याशी घोषित कर चुकी है। क्षेत्र के लोगों की नजरें अब कांग्रेस व भाजपा तथा इनेलो के उम्मीदवारों पर लगी है।

21 अक्टूबर को होने वाले विधान सभा चुनाव को लेकर पार्टियों ने अपने उम्मीदवारों की घोषणा शुरू कर दी है। रविवार को बसपा द्वारा जारी की सूची में हथीन विधान सभा क्षेत्र से तैय्यब हुसैन को टिकट दिया है। अन्य पार्टियों के मुकाबले बसपा व जजपा ने सबसे पहले उम्मीदवारों की सूची जारी की है। जजपा यहां से पूर्व मंत्री हर्ष कुमार की घोषणा कर चुका है। बता दें कि कांग्रेस से पूर्व विधायक अजमत खां, मोहम्मद बिलाल, चौधरी इसराईल , सविता चौधरी प्रमुख दावेदारों में है। अभी इस सीट पर कांग्रेस में पेच फंसा हुआ है।

पहले कांग्रेस के रूप में यहां पर चौधरी इसराईल की टिकट फाइन मानी जा रही है। अभी तक तो यह फैसला नहीं हो पाया है कि यह सीट अल्पसंख्यक समुदाय में जाएगी या फिर बहुसंख्यक समुदाय के पास रहेगी। यह तय होने के बाद सीट पर उम्मीदवार का फैसला होना है। सूत्र कहते हैं कि इसमें अभी दो-तीन लग सकते हैं। वहीं भाजपा भी हथीन सीट में कोई फाइनल फैसला नहीं ले पा रही है।

भाजपा से यहां पर पूर्व विधायक केहर सिंह रावत, प्रवीन डागर, मुकेश रावत व धमेंद्र तेवतिया प्रबल दावेदारों में है। भाजपा में भी हथीन सीट को लेकर अभी भी ऊहापोह की स्थिति बनी हुई है। ऐसी ही स्थिति इनेलो में भी बनी हुई है। खास बात यह है कि टिकट फाइनल नहीं होने के कारण क्षेत्र के गांवों में चुनाव प्रचार भी नहीं हो पा रहा है। क्योंकि भाजपा व कांग्रेस के टिकट मांगने वाले दिल्ली में डेरा जमाए हुए हैं। नामांकन की अंतिम तिथि चार अक्टूबर है, ऐसे में पूरी टिकटों की घोषणा नहीं होने से चुनाव के इच्छुक उम्मीदवार असमंजस में है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।