गंगापुर सिटी में बैंडबाजों एवं आकर्षक सजीव झांकियों के लवाजमे के साथ निकली महाराजा अग्रसेन की शोभायात्रा
September 29th, 2019 | Post by :- | 176 Views

-अग्रवाल धर्मशाला में हुई आमसभा में मेधावियों एवं भामाशाहों के साथ पत्रकारों का हुआ सम्मान, महाराजा अग्रसेन के जयकारों से गुंजायमान हुुआ शहर
गंगापुर सिटी। जब तक सूरज-चांद रहेगा, अग्रसेन तेरा नाम रहेगा, एक, दो, तीन, चार अग्रसेन की जय-जयकार। जैसे गगनभेदी नारों से रवविार को शहर गुंजायमान हो गया। अवसर था अग्रसेन जयंती के उपलक्ष्य में अग्रवाल समाज समिति मुख्य शाखा एवं उदेई मोड शाखा की ओर से निकाली गई भव्य शोभायात्रा का। शोभायात्रा में सजाई गई सजीव झांकियां लोगों के आकर्षण का केन्द्र रही। मास्टर रामजीलाल की ओर से मुख्य शाखा की झांकियां सजाई गई थी, जिनमें राम-लक्ष्मण और बंदर सेना, लक्ष्मीजी, कृष्ण-राधा, अग्रसेन महाराज, अग्रसेन महाराज के सभी पुत्र, काली माता एवं नव दुर्गा झांकियां पूरी कलात्मकता लिए हुई थी।
अग्रवाल समाज के अध्यक्ष महेन्द्र गर्ग मेडिकल वालों ने बताया कि शोभायात्रा से पूर्व अग्रवाल धर्मशाला में आमसभा हुई। इसमें समाज के विकास पर चर्चा करते हुए निर्णय लिए गए। अग्रसेन महाराज की माला की बोली लगाई गई जो कि सतेन्द्र कुमार के नाम 5 1 हजार रुपए में रही। आमसभा के दौरान विभिन्न प्रतियोगिता में विजेता रहे छात्र-छात्राओं, समाज के मेधावियों, भामाशाहों एवं पत्रकारों का सम्मान किया गया। आमसभा में अतिथि हीरालाल अग्रवाल ( सेकेट्री ), राजेश अग्रवाल कांग्रेस नेता, सेवाराम गोयल पूर्व अध्यक्ष व्यापार मंडल, रामबाबू मंगल शाखा प्रबंधक बडौदा राजस्थान क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक गंगापुर सिटी थे। इसके अलावा महिला मंडल अध्यक्ष रेखा गर्ग एवं अग्रवाल समाज की सभी इकाईयों के पदाधिकारी मौजूद रहे। अग्रवाल कन्या महाविद्यालय में जयंती समारोह धूमधाम से मनाया गया। मुख्य अतिथि सत्यनारायण सिंहल ने ध्वजारोहण किया और अध्यक्षता शिक्षण संस्थान के अध्यक्ष ओमप्रकाश गुप्ता ने की। इस अवसर पर एडवोकेट गंगाप्रसाद अग्रवाल, हरिलाल गुप्ता, गोवर्धनलाल गर्ग, दीनदयाल गुप्ता, मोहनलाल गुप्ता, राजेन्द्र प्रसाद, प्राचार्य डॉ. वेदपाल सिंह, प्रधानाचार्य ब ा बूलाल शर्मा मौजूद रहे। संचालन मधु गुप्ता व मंजू गुप्ता ने किया।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।