नालागढ़ में आफत बनकर बरसी बारिश, महादेव गौशाला के 700 गौवंश पर मंडराया खतरा
August 21st, 2019 | Post by :- | 114 Views

नालागढ़ के स्वारघाट रोड पर स्थित महादेव गौशाला के गौ सेवकों ने गौशाला को बचाने के लिए सरकार से लगाई गुहार। वहीं शनिवार देर रात हुई भारी बारिश के बाद हुए नुकसान से तकरीबन 700 गोवंश पर मौत का खतरा मंडराया रहा है। गौशाला के प्रधान दौलत राम ने बताया कि उनकी गौशाला तकरीबन 70 बीघा भूमि पर विकसित है जो नालागढ़ स्वारघाट रोड पर महादेव खड्ड के साथ बनी है। बता दें कि गौशाला में तकरीबन 700 गोवंश है और यह हिमाचल की सबसे बड़ी गौशाला है। वहीं दौलत राम ने बताया कि उनके द्वारा सरकार व प्रशासन को कई बार अवगत कराया गया है कि खड्ड और गौशाला के बीच में एक बांध लगवाया जाए। नालागढ़ के पूर्व विधायक के.एल. ठाकुर के कहने पर हिमाचल प्रदेश सरकार में मंत्री डॉ. राजीव सैजल ने डेढ़ साल पहले गौशाला को 15 लाख की राशि देने का वादा किया गया था मगर आज तक वह राशि भी उनको प्राप्त नहीं हुई है। दौलत राम का कहना है कि जिस तरह शनिवार देर रात को हुई भारी बारिश से महादेव खड्ड में जलस्तर बढ़ जाने के कारण गौशाला के साथ लगती काफी जमीन जलमग्न हो गई है और अगर दोबारा ऐसी बरसात होती है तो गौशाला और गोवंश को काफी खतरा है। अगर सरकार व प्रशासन समय रहते कोई मदद नहीं करती है तो मजबूरन गौशाला कमेटी को सारे गांव अंशों को सड़कों पर छोड़ने के अलावा कोई और रास्ता नहीं बचेगा । वहीं जब इस पूरे मामले पर नालागढ़ से भाजपा के पूर्व विधायक के एल.ठाकुर से बात की गई तो उन्होंने जल्द ही बी.बी.एन.डी.ए. के माध्यम से 50 लाख की राशि दिलवाने की बात कही है। आपको बता दें कि हिमाचल प्रदेश में विधानसभा के चुनावों के दौरान भाजपा सरकार ने अपने मेनिफेस्टो में गौ संरक्षण की बात कही थी जबकि धरातल पर अभी तक हिमाचल में गौ संरक्षण एक सफेद हाथी ही बनकर रह गया है।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।