बद्दी ! शहीदे-ए-आजम भगत सिंह की जयंति पर 83 युवाओं ने किया रक्तदान
September 27th, 2019 | Post by :- | 85 Views
— अमित सिंगला वेल्फेयर सोसाईटी द्वारा चौथा रक्तदान शिविर आयोजित….
भारत के महान क्रांतिकारी शहीदे-ए-आजम भगत सिंह की जयंति पर बद्दी की अमित सिंगला सोशल वेल्फेयर सोसाईटी, प्रेस क्लब बद्दी व एनयूजे इंडिया के सामूहिक सहयोग से रक्तदान शिविर का आयोजन किया। काठा में क्योरटैक फार्मा के प्रांगण में आयोजित इस शिविर में 83 युवाओं ने रक्त देकर देश की रक्षा करने का संकल्प लिया। शिविर का शुभारंभ लघु उद्योग भारती फार्मा विंग के प्रदेश संयोजक चिरंजीव ठाकुर ने किया। दो बजे तक रोटरी ब्लड बैंक की टीम ने रक्त एकत्रित किया। डा. रोली अग्रवाल ने बताया कि साल में कोई भी 18 से 60 साल तक का स्वस्थ व्यक्ति चार बार रक्तदान कर सकता है और इसको करने से किसी भी प्रकार की कमजोरी नहीं आती।
 — बाक्स : रणेश राणा ने 26वीं और ओम शर्मा ने 30वीं बार किया रक्तदान
बद्दी के युवा पत्रकार ओम शर्मा ने 30वीं व एनयूजे इंडिया के प्रदेशाध्यक्ष रणेश राणा ने 26वीं बार रक्तदान किया। समाचार पत्र विक्रेता सोनू कुमार ने दूसरी बार रक्त दिया। अमित सिंगला सोशल वैल्फेयर सोसाईटी के अध्यक्ष व सबसे पहले रक्त देने वाले युवा उद्यमी सुमित सिंगला ने बताया कि हम इस जगत में भोग विलास के लिए नहीं आए है बल्कि हमारा कर्तव्य दूसरों की सेवा करना यानि परमार्थ है। यह शरीर तभी सुंदर है जब हम तन मन धन से अभावग्रस्तों, दुखी व पीडीतों की सेवा करते हैं और हमें गर्व है कि यह रक्त घायलों के अलावा सीमाओं की सुरक्षा में तैनात प्रहरियों की जान बचाने के काम आएगा। इस अवसर पर हरिओम योगा सोसाईटी के अध्यक्ष डा. श्रीकांत शर्मा, लघु उद्योग भारती फार्मा विंग प्रांत चेयरमैन चिरंजीव ठाकुर, सेवा भारती अध्यक्ष जगदीप सिंह अरोडा, ट्रक यूनियन सदस्य संजीव ठाकुर संजू, राजीव शर्मा, शिव कुमार धीमान, संजीव कुंडलस, कुलवीर जमवाल, एनयूजे इंडिया के प्रदेशाध्यक्ष आरएस राणा, दीपाली ठाकुर, कमलेश धीमान, जगतार सिंह, दारी खां, हरबंस राणा, सचिन बैंसल, प्रदीप धीमान, चरण सिंह, यशपाल, हिना राणा, दीपक शर्मा, मान सिंह, मदन सिंह सहित कई लोग उपस्थित थे।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।