फसल बर्बादी का मुवाजा व पानी की किल्लत को लेकर दिया धरना।
September 27th, 2019 | Post by :- | 117 Views

गौड़ (तोशाम भिवानी) तोशाम खंड के गांव संडवा मे खेतो की सिंचाई के लिए नहरी पानी की मांग को लेकर दूसरे दिन भी गांव संडवा के ग्रामीण गांव के मुख्य चौक पर धरने पर बैठे रहे।

ग्रामीण सुखबीर कालीरामण,शत्रुघ्न,नरेश कुमार,मनीष सेपट विकाश कालीरामण,प्रवीन कुमार आदि ने बताया कि ये धरना जब तक जारी रहेगा जब तक हमारी मांगे पूरी नही की जायेगी।हमारी मांग है हमे गांव संडवा को नहरी पानी न मिलने के कारण व बरसात के मौसम में कम बरसात होने के कारण कपास बाजरे ग्वार आदि जो फसल खराब हुई है उसका हमे उचित मुहावजा दिया जाये।गांव संडवा के ग्रामीणों की मांग है कि उन्हें एनएस लिंक निगाना-सिवानी नहर से किसानों को पानी नही मिला उसको चलवाया जाएं नहर से सम्बंधित सभी रजवाहो की टेल चलवाई जाएं।एन एस लिंक के 0 बुर्जी से लेकर सिवानी नहर ईशरवाल (49000)तक इसका किसानों का पूरा रकबा निकालकर पूर्णतय नहर का बार बांधा जाएं।किसानों ने चेतावनी दी की जब तक हमारी मांगे नही मानी जाएगी जब तक धरना जारी रहेगा।ग्रामीणों ने बताया कि उन्हें पिछले 6 महीने से नहरी पानी नही मिल रहा जिससे हमारी फसल खराब हो गई और इस बार न ही अच्छी बरसात हुई इस बारे में प्रसासन से कई बार मांग कर चुके है परन्तु हमारी कोई सुनाई नही हो रही जिससे मजबूरन हमे धरने पर बैठना पड़ा।नहरी पानी न आने के कारण हमारे दोनों जल घर सूखे पड़े है जिससे हमें पिने के पानी की भी भरी किल्लत हो रही है ग्रामीण सुखबीर कालीरामण ने बताया कि सरकार की स्कीम मेरी फसल मेरा ब्यौरा के तहत हमने बाजरा व कपास का पंजीकरण किया था जो की हमारे गांव के 2625 किसानों के पंजीकरण केंसिल हो गए ।

जब हम मार्किट कमेटी के अधिकारियो से मिले तो उन्होंने मुरवाबन्दी न होने का हवाला देकर अपना पल्ला जाड़ लिया जिससे हमारे गांव के किसान अपनी फसल सरकार की निर्धारित की गई कीमत से पांच सौ रूपये कम मूल्य पर किसान फसल बेचने के लिए मजबूर है। जिसका कोई समाधान प्रशासन नही निकाल रहा ।यह धरना जब तक रहेगा जब तक हमारी सभी मांगे पूरी नही की जा सकेंगी।।अगर फिर भी हमारी मांगे पूरी नही हुई तो आने वाले विधानसभा चुनाव का बहिष्कार किया जायेगा।

कृपया अपनी खबरें, सूचनाएं या फिर शिकायतें सीधे editorlokhit@gmail.com पर भेजें। इस वेबसाइट पर प्रकाशित लेख लेखकों, ब्लॉगरों और संवाद सूत्रों के निजी विचार हैं। मीडिया के हर पहलू को जनता के दरबार में ला खड़ा करने के लिए यह एक सार्वजनिक मंच है।